Friday , 25 September 2020

मुंबई हमले को लेकर गृह सचिव मधुकर ने किया बड़ा खुलासा

Loading...
• मुंबई हमले की रात पाकिस्तान में रुके भारतीय अधिकारी ने कहा, रुकना अजीब लगा था
• तत्कालीन गृह सचिव मधुकर गुप्ता ने कहा कि जिससे बात की जानी चाहिए थी, की गई
• उन्होंने कहा, ‘खबरें आ रही थीं कि NSG लेट हो गई, मैं मुंबई में मौजूद होता तो क्या कर लेता’
auto-china_146529533 एजेंसी/ नई दिल्ली. 26 नवंबर 2008 को मुंबई हमले के समय पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा एक और दिन अपने यहां रुकने के आग्रह को मानने वाले तत्कालीन गृह सचिव मधुकर गुप्ता ने बताया है कि मुंबई हमले की रात क्या हुआ था। इससे पहले, खबर आई थी कि पाकिस्तानी अधिकारियों संग वार्ता करने गए भारतीय अधिकारियों को एक और दिन वहां रुकने को कहा गया था। मुंबई हमले के करीब आठ साल बाद हुए इस खुलासे के बारे में गुप्ता ने कहा है, ‘यह गलत है कि वहां (पाकिस्तान में) सिग्नल नहीं मिल रहे थे। मुझे भारत से फोन आया था और मैंने रिसीव भी किया। मैंने टीवी खोला तो मुझे मुंबई पर हुए हमले के बारे में पता चला।’

उन्होंने आगे कहा, ‘हम एक बड़े प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा थे। हमले के बारे में पता चलते ही मैंने वरिष्ठ नेतृत्व से बात की। जैसे ही हमें पता चला कि आतंकी हमला है, हमें जिससे बात करनी चाहिए थी, हमने की। हमले के वक्त मैं भारतीय अधिकारियों के संपर्क में था। कोई नहीं जानता था कि मुंबई पर हमला होगा। हमें भी थोड़ा अजीब लगा था कि वे हमारा मरी में रुकने का इंतजाम क्यों कर रहे थे।’

 तत्कालीन गृह सचिव मधुकर गुप्ता ने कहा, ‘गृह मंत्रालय के एक अंडर सेक्रटरी ने बताया था कि कंट्रोल रूम में कोई नहीं है, फिर इसे ठीक किया गया। जानकारी उसी दिन मिली थी। सब तरह की बातें की जा रही थीं, जैसे नैशनल सिक्यॉरिटी गार्ड्स (NSG) लेट पहुंचे। मैं वहां मौजूद होता तो क्या कर लेता?’

मधुकर गुप्ता ने कहा, ‘पता नहीं, आठ साल बाद यह कहने से क्या हासिल होगा कि क्या हमें जानबूझकर मरी भेजा गया था! पता नहीं ऐसा क्यों कहा जा रहा है कि हम वहां छुट्टियां मना रहे थे, हम कुछ अतिरिक्त घंटे रुके थे, क्योंकि मेजबानों ने रुकने के इंतजाम किए थे। पाकिस्तान का धोखा देने वाला चेहरा सबसे सामने स्पष्ट है। ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। पाकिस्तान से हमने तब कहा था कि वहां कोई है जो नहीं चाहता कि भारत और पाकिस्तान के रिश्ते ठीक हों।’

इस हमले के वक्त गृह मंत्री रहे शिवराज पाटिल ने कहा है, ‘जो लोग कह रहे हैं कि मरी में देर करने के पीछे साजिश थी, उनके पास सबूत होने चाहिए। मैं कुछ नहीं कह सकता।’ पाटिल ने आगे कहा, ‘आप मोदी जी से पूछिए, बड़ौदा में हमला हो रहा था। मैंने उनसे पूछा कि क्या आपको फोर्स चाहिए, उन्होंने कहा कि सेना भेजिए। मैंने कहा कि इसमें समय लगेगा। उन्होंने कहा, भेज दीजिए, तब तक मैनेज कर लूंगा और उन बेचारों ने मैनेज किया भी।’

Loading...

मुंबई हमले के बारे में याद करते हुए पाटिल बोले, ‘NSG एक घंटे के भीतर तैयार थी, लेकिन कोई एयरक्राफ्ट नहीं था। इसे चंडीगढ़ से आना पड़ा था, फिर पायलट ने एयरक्राफ्ट चेक किया। लोगों को महसूस करना होगा कि कानून और व्यवस्था राज्य के अधीन होती है। जब जरूरत पड़ी, हमने फोर्स मूव की। बॉम्बे पुलिस इस हमले को हैंडल कर रही थी, फिर भी हमने उसी रात जितनी जल्दी संभव था, तुरंत फोर्स भेजी।’

हमारे सहयोगी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ ने बताया था कि पाकिस्तान में गृह सचिव स्तर की वार्ता करने गए अधिकारी पाक के आग्रह पर वहां एक और दिन रुके थे। पाक अधिकारियों का तर्क था कि भारतीय प्रतिनिधिमंडल को पाकिस्तानी गृह मंत्री से मिलना चाहिए, जो उस वक्त यात्रा पर थे। एक पूर्व भारतीय नौकरशाह ने कहा है, ‘हालांकि हम इस्लामाबाद में दो दिन तक रुके थे, मेजबान देश ने हमें पास के मरी में एक हिल रिजॉर्ट में ठहराने की योजना बनाई। अब सोचें तो शक होता है कि क्या उनका असली मकसद भारतीय सुरक्षा एजेंसियों का मुंबई हमले पर प्रतिक्रिया को कमजोर करना या इसमें देरी करना तो नहीं था।’

बेहद रोमांचक और आश्चर्यजनक जानकारियों के लिए नीचे फोटो पर क्लिक करें

loading...
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com