Sunday , 26 September 2021

त्राल में मसूद अजहर के रिश्‍तेदार और जैश के कश्मीर कमांडर को भारतीय सेना ने मार गिराया

Loading...

नई दिल्ली: 2018 से कश्मीर घाटी में सक्रिय जैश-ए-मोहम्मद का एक शीर्ष आतंकवादी, शनिवार को जम्मू-कश्मीर पुलिस और खुफिया विभाग के जनरल रशीम बाली के नेतृत्व में भारतीय सेना के विक्टर फोर्स द्वारा ऑपरेशन के दौरान मारा गया।

मोहम्मद इस्माइल अल्वी, जिसे इब्राहिम, लांबा, लाला, लम्बू और अदनान के नाम से भी जाना जाता था, पाकिस्तान के बहावलपुर में बिस्तर पर पड़े मसूद अजहर अल्वी के साथ जैश-ए-मोहम्मद के वास्तविक प्रमुख मुफ्ती अब्दुल रऊफ असगर का अंगरक्षक था। खुफिया जानकारी के अनुसार, इस्माइल ने मई 2018 के पहले सप्ताह में शकरगढ़ सेक्टर से घाटी में प्रवेश किया और तब से कई आतंकी हमलों में शामिल था। उसने घाटी में कई स्थानीय को जैश-ए-मोहम्मद में भर्ती किया था।

भारत में घुसपैठ करने से पहले उसने पाकिस्तान के बहावलपुर में जैश मरकज़ के अलावा, खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के जाबा-बालाकोट, मनशेरा में जैश प्रशिक्षण केंद्र का दौरा किया। वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार, वह गाड़ि‍यों में आईईडी लगाने में विशेषज्ञ था। यह अफगानिस्तान में नियमित रूप से उपयोग किया जाता है और पुलवामा हमले में भी इस्तेमाल किया गया था, इस्माइल ने तालिबान के साथ प्रशिक्षण में इसको सीखा था।

Loading...

वह फरवरी 2019 में पुलवामा हमले में शामिल था। उनके मुख्य संचालकों में मौलाना मसूद अजहर के भाई यूसुफ अजहर और बालाकोट प्रशिक्षण केंद्र के प्रमुख और मुफ्ती अब्दुल रऊफ असगर शामिल थे। जम्मू-कश्मीर में जैश-ए-मोहम्मद के चीफ ऑपरेशनल कमांडर के तौर पर वह मुफ्ती अब्दुल रऊफ असगर के साथ-साथ मौलाना मसूद अजहर के ‘मकतूब-उल-आमिर’ ऑपरेशन के कई अन्य सदस्यों के साथ आतंकी हमलों को अंजाम देने के लिए लगातार संपर्क में था।

उनके संपर्कों में मुफ्ती अब्दुल रऊफ असगर के भाई तल्हा सैफ, पुलवामा हमले के सूत्रधार हफीज अल रहमान, इब्राहिम अजहर मोहम्मद उमर के बेटे और कारी जर्रार, शाहिद लतीफ, गाजी खान, हम्माद और अन्य जैश के अन्य कमांडर भी शामिल थे।

बेहद रोमांचक और आश्चर्यजनक जानकारियों के लिए नीचे फोटो पर क्लिक करें

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com