Wednesday , 27 May 2020

चारों वेदों का सार उपनिषद है और उपनिषदों का सार गीता: धर्म

Loading...

कहते हैं कि चारों वेदों का सार उपनिषद है और उपनिषदों का सार गीता है। गीता में कहा गया है कि शुक्ल पक्ष में मृत्यु को प्राप्त व्यक्ति वापस नहीं आता और कृष्ण पक्ष में मृत्यु को प्राप्त व्यक्ति को फिर जन्म लेना होता है। इसीलिए भीष्म ने अपना शरीर तब तक नहीं छोड़ा था, जब तक कि उत्तरायण का शुक्ल पक्ष नहीं आ गया था।

सामान्य रूप से लाखों लोग शुक्ल पक्ष में मरते हैं और लाखों कृष्ण पक्ष में, तो क्या शुक्ल पक्ष में मरने वाले सभी लोगों को मोक्ष मिल जाता है? क्या वे फिर जन्म नहीं लेते। दरअसल, यह बात उन लोगों के लिए है, जो योगी या अनन्य भक्त हैं। आम तौर पर व्यक्ति मरने के कुछ समय बाद दूसरा जन्म ले लेता है, लेकिन जो पाप कर्मी है, उसे नए जन्म में कठिनाई होती है।

गीता में कहा गया है कि शरीर त्यागकर गए हुए योगीजन तो वापस न लौटने वाली गति को प्राप्त होते हैं। यह भी महत्वपूर्ण है कि शरीर का त्याग किस काल में किया गया है।

Loading...

इसे ही जन्म और मरण का मार्ग कहा गया है। जिस मार्ग में अग्नि देव हैं, दिन के देवता हैं, शुक्ल पक्ष और उत्तरायण के छह महीनों के देवता हैं, उस मार्ग से गए योगीजन ब्रह्म को प्राप्त होते हैं।

जिस मार्ग में रात्रि और कृष्ण पक्ष के देवता हैं, उस मार्ग से गए सकाम योगी चंद्रमा की ज्योति को प्राप्त होते हैं और अपने शुभ कर्मों का फल भोगकर वापस आ जाते हैं (गीता अध्याय 8/24, 25)। इसका आशय यह है कि दो ही तरह के मार्ग सनातन माने गए हैं- शुक्ल और कृष्ण या देवयान और पितृयान। एक से गया हुआ व्यक्ति वापस नहीं आता और दूसरे से गया हुआ वापस आता है।

बेहद रोमांचक और आश्चर्यजनक जानकारियों के लिए नीचे फोटो पर क्लिक करें

loading...
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com