Friday , 18 September 2020

आप जानते हैं क्यों हैं भगवान श्रीहरी विष्णु के चार हाथ

Loading...

Lord-vishnu_5723f1f37856fएजेंसी/ त्रिदेवों में सबसे बड़े भगवान शिव हैं जिनके पास तीन नेत्र हैं. मान्यताओं के अनुसार सर्वप्रथम उन्होंने ही अपनी अंतर्दृष्टि से श्रीहरि को जन्म दिया था. और फिर क्षीरसागर निवासी विष्णु जी की नाभि से ब्रह्मा जी की उत्पत्ति हुई थी. जिनके तीन सिर और चार हाथ हैं. इन पौराणिक कथाओं का विस्तार से उल्लेख पुराणों में मिलता है.

श्रीहरी विष्णु के चार हाथों का कार्य 
भगवान विष्णु यानी श्री हरि के चार हाथ उनकी शक्तिशाली और सब व्यापक प्रकृति का संकेत देते है उनके सामने के दो हाथ भौतिक अस्तित्व का प्रतिनिधित्व करते है, पीठ पर दो हाथ आध्यात्मिक दुनिया में अपनी उपस्थिति का प्रतिनिधित्व करते हैं.

Loading...

विष्णु के चार हाथ अंतरिक्ष की चारों दिशाओं पर प्रभुत्व व्यक्त करते हैं और मानव जीवन के चार चरणों और चार आश्रमों के रूप का प्रतीक है, जो कि क्रमशः ज्ञान के लिए खोज (ब्रह्मचर्य), पारिवारिक जीवन (गृहस्थ), वन में वापसी (वानप्रस्थ) और संन्यास का प्रतीक हैं.

बेहद रोमांचक और आश्चर्यजनक जानकारियों के लिए नीचे फोटो पर क्लिक करें

loading...
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com