Wednesday , 23 June 2021

ये है असली वजह, मरे हुए लोग आते हैं सपने में …

Loading...

नई दिल्ली विज्ञान के मुताबिक हर व्यक्ति नींद में औसतन 5 से 7 सपने देखता है। अक्सर नींद खुलने पर हम इन सपनों को या तो पूरी तरह भूल जाते है या फिर टुकड़ों में एक धुंधली याद की तरह समझ पाते है।

Loading...
img_20161216024851कभी कभी कुछ सपने ऐसे होते है कि वो नींद टूटने के बाद भी हमें याद रह जाते है तो वहीँ कुछ सपने ऐसे होते है जो नींद को तोड़ देते है। कुछ इसी तरह के सपने होते है जिनमें हम मृत लोगों को देखते है। ऐसा लगभग सभी के साथ होता है कि उन्हें सपने में  कभी न कभी कोई मारा हुआ शख्स दिखाई देता है। सपने में मरे हुए लोगों के दिखने के दो प्रमुख कारण होते है।
अगर सपने में कोई ऐसा व्यक्ति दिखे जिसकी मृत्यु हाल ही में हुई है तो इसका मतलब ये होता है कि या तो वह व्यक्ति अपनी कोई दबी हुई इच्छा आपको बताना चाहता है या फिर वो आपसे कुछ ऐसी बात साझा करना चाहता है जो जीते जी कहनी रह गयी थी।
इसके अलावा ऐसे लोगों का सपने में दिखाई देने का एक कारण ये भी होता है कि जब हमारा रिश्ता बहुत मज़बूत होता है तो उनके मरने के बाद भी उनकी उपस्थिति हमें सपनों के ज़रिये महसूस होती रहती है।
कभी कभी ऐसा भी होता है की हमारे परिवार या नज़दीक के किसी मित्र हमारे सपने में दिखाई देते है जिनकी मृत्यु बहुत समय पहले हो चुकी होती है। इनका सपने में दिखाई देने का विशेष कारण होता है। ये लोग हमारे शुभचिंतक होते है इसलिए जब भी हम पर कोई विपदा आती है या फिर हम किसी परेशानी में होते है तो ये लोग हमारे सपनों में आकर किसी न किसी तरह हमारी मदद कर देते है या फिर हमें उस विपदा के आने से पहले ही सचेत कर देते है।
ऐसा माना जाता है कि इसके अलावा हमारे बड़े बुजुर्ग मृत्यु के बाद भी सपनों में हमारे कुशल क्षेम जानने के लिए भी आते रहते है। मरने के बाद भी वो इस अपने परिवार के मोह से मुक्त नहीं हो पाते इसलिए समय समय पर सपनों में आकर हमारा मार्गदर्शन और देखभाल करते है। देखा आपने निरर्थक समझे जाने वाले सपनों के पीछे भी बहुत से कारण छुपे होते है।
अक्सर हम सपनों को दिमाग का फ़ितूर मान कर भूल जाते है लेकिन कभी कभी इन सपनों के जरिए हमारे शुभचिंतक मृत्यु के बाद भी हमें कभी आने वाली विपदा की चेतावनी देते है तो कभी किसी गहन समस्या का हल दिखाते है।

बेहद रोमांचक और आश्चर्यजनक जानकारियों के लिए नीचे फोटो पर क्लिक करें

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com