Wednesday , 19 December 2018

मात्र कपड़ों की वजह से महिला पत्रकार को संसद से निकाला बाहर, वायरल हुआ ये ट्रेंड

सोशल मीडिया पर ऑस्ट्रेलिया की महिला पत्रकार का एक फोटो तेजी से वायरल हो रही है। इस तस्वीर में वे छोटी बांह वाली ड्रेस पहने हुए है, जिसे कथित तौर पर अंगप्रदर्शन करार देते हुए उन्हें ऑस्ट्रेलिया की संसद से बाहर निकाल दिया गया था। इसके बाद सोशल मीडिया पर महिला पत्रकार के पहनावे को लेकर बहस छिड़ गई। कई महिलाओं ने छोटे बांह वाली तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर कर महिला पत्रकार का सर्मथन किया है।

यह था मामला-

खबरों के अनुसार महिला पत्रकार पैट्रेसिय कार्वेलस प्रश्नकाल के दौरान संसद में मैजूद थी। इस दौरान एक अटेंडेंट उनके पास आया और उन्हें प्रश्नकाल छोड़कर बाहर जाने के लिए कहा। इस पर कार्वेलस ने जब विरोध किया तो अटेंडेंट ने उन्हें कहा कि ‘आपके कपड़ों की बांह काफी छोटी है। आपका कंधा ज्यादा दिखाई दे रहा है आपको इसे कवर करने की जरूरत है।’

रूस को अमेरिका ने दी चेतावनी, कहा- 60 दिन के अंदर अपनी मिसाइलों को करो नष्ट, वरना…

सासंद जुली बिशॉप से की तुलना-

कार्वेलस ने अटेंडेंट को समझाते हुए कहा कि, मेरे कपड़े संसदीय मानकों के अनुरूप ही है इसलिए वे बाहर नहीं जाएंगी। इस मामले के बाद लोगों ने महिला पत्रकार के कपड़ों की तुलना सांसद जुली बिशॉप के कपड़ों से की। लोगों का कहना है कि, संसद सत्र के दौरान वे अक्सर शॉर्ट स्लीव या स्लीवलेस ड्रेस में नजर आती हैं।

महिलाएं पोस्ट कर रही हैं छोटी बांह वाली फोटो

सोशल मीडिया पर कई लोग एबीसी न्यूज रिपोर्टर के समर्थन में छोटी बांह वाली ड्रेस के साथ अपनी फोटो पोस्ट कर रहे हैं। वहीं, कुछ लोगों ने संसद के इस फैसले को हास्यास्पद बताया है। ऑस्ट्रेलिया संसद की वेबसाइड के अनुसार, महिलाओं की ड्रेस का मानक उनकी निजी पसंद का मामला है। हालांकि इसका अंतिम फैसला स्पीकर करेंगे। 

ट्वीटर पर शुरू हुई बहस

ऐसा नहीं है कि ऑस्ट्रेलिया की संसद में पहली बार ऐसी मामला उठा हो। पिछले साल सासंद एडैम बैंडेट ने ट्वीट कर ‘बेयर आर्म रूल’ को बदलने की नाकाम कोशिश की थी। महिला पत्रकार के समर्थन में आई कुछ महिलाओं ने ट्वीटर पर #ShowUsSomeArm के साथ अपनी खुली बांहों वाली तस्वीरें शेयर की है। वहीं, एक महिला ने लिखा- मैं खुद को बहुत भाग्यशाली मानती हूं कि मुझे प्रेस गैलरी में नहीं जाना पड़ता और मेरी खुली बांह सिर्फ टिचिंग में दिखती है। इसके साथ ही कुछ लोगों ने ‘राइट टू बेयर आर्म’ के लिए संविधान संशोधन की बात भी कही है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com