Friday , 25 September 2020

गर्भ में जाने से पूर्व श्री विष्णु ने देवकी माँ से कही थी ये बात….

Loading...

आज जन्माष्टमी का पर्व मनाया जा रहा है. यह पर्व बहुत ही अच्छा और शुभ पर्व माना जाता है. इस दिन श्री कृष्ण का जन्म हुआ था. ऐसे में आपको हम यह भी बता दें कि इस साल यह पर्व दो दिन मनाया जाने वाला है जो आज यानी 11 अगस्त और कल यानी 12 अगस्त को है. अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं गर्भ में जाने पूर्व श्री विष्णु ने देवकी से क्या कहा था….?

भगवान विष्णु ने श्रीकृष्ण के रूप में मथुरा के राजा कंस के कारागार में देवकी के गर्भ से भाद्र मास की कृष्ण अष्टमी को रोहिणी नक्षत्र में रात की बारह बजे जन्म लिया था. कहा जाता है गर्भ में प्रवेश के दौरान भगवान विष्णु ने प्रकट होकर देवकी और वसुदेवजी को अपने चतुर्भुज रूप के दर्शन कराकर रहस्य की बातें बताई थीं. जी दरअसल उस दौरान उन्होंने कहा, ‘हे माता आपके पुत्र रूप में मेरे प्रकट होने का समय आ गया है. तीन जन्म पूर्व जब मैंने आपके पुत्र रूप में प्रकट होने के वरदान दिया था.’ वहीं तब श्रीकृष्ण भगवान वसुदेव और देवकी के पूर्व जन्म की कथा बताते हैं और कहते हैं कि ‘आप दोनों ने स्वायम्भुव मन्वन्तर में प्रजापति सुतपा और देवी वृष्णी के रूप में किस तरह मुझे प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी. फिर मैंने तीन बार तथास्तु कहा था इसलिए मैं आपके तीन जन्म में आपके पुत्र के रूप में प्रकट हुआ. पहले जन्म में वृष्णीगर्भ के नाम से आपका पुत्र हुआ.

Loading...

फिर दूसरे जन्म में जब आप देव माता अदिति थी तो मैं आपका पुत्र उपेंद्र था. मैं ही वामन बना और राजा बलि का उद्धार किया. अब इस तीसरे जन्म में मैं आपके पुत्र रूप में प्रकट होकर अपना वचन पूरा कर रहा हूं. यदि आपको मुझे पुत्र रूप में पाने का पूर्ण लाभ उठाना है तो पुत्र मोह त्यागकर मेरे प्रति आप ब्रह्मभाव में ही रहना. इससे आपको इस जन्म में मोक्ष मिलेगा.’ इस बात को सुनकर माता देवकी ने कहा ‘हे जगदीश्वर यदि मुझमें मोक्ष की लालसा होती तो उसी दिन में मोक्ष न मांग लेती! नहीं प्रभु, मुझे मुक्ति नहीं चाहिए. मुझे तो आपके साथ मां बेटे का संबंध चाहिए. यह सुनकर प्रभु प्रसन्न हो जाते हैं. फिर माता देवकी कहती हैं कि इस चतुर्भुज रूप को हटाकर आप मेरे सामने नन्हें बालक के रूप में प्रकट हों. मुझे तो केवल मां और पुत्र का संबंध ही याद रहे बस. तब श्रीकृष्ण कहते हैं तथास्तु.’

बेहद रोमांचक और आश्चर्यजनक जानकारियों के लिए नीचे फोटो पर क्लिक करें

loading...
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com