Wednesday , 27 May 2020

एपल अपनी रणनीति में बड़े बदलाव की तैयारी में

Loading...

यदि आपको भी इस बात की शिकायत है कि आपके पास आईफोन या आईपैड है लेकिन आप डिफॉल्ट रूप से जीमेल या मोजिला जैसे कोई अन्य एप इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। एपल अपनी रणनीति में बड़े बदलाव की तैयारी में है।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के दावे के मुताबिक एपल जल्द ही आईफोन या आईपैड में अन्य कंपनियों के एप्स को डिफॉल्ट रूप में इस्तेमाल करने की सुविधा दे सकती है। अभी तक एपल के प्रोडक्ट में एपल के ही एप डिफॉल्ट रूप से मिलते हैं। अन्य एप को डिफॉल्ट रूप में ना देने को लेकर एपल की आलोचन हो चुकी है। एपल पर अपने प्रोडक्ट्स को बढ़ावा देने का भी आरोप लगा है।

वैसे तो इस बात की पुष्टि नहीं हुई है लेकिन कहा जा रहा है कि थर्ड पार्टी एप को डिफॉल्ट रूप में लॉन्च करने की तैयार चल रही है। साल 2008 में एपल ने अपना एप स्टोर लॉन्च किया था, उसके बाद से ही कंपनी ने आईओएस डिवाइस में मौजूद एप्स को किसी थर्ड पार्टी एप्स से रिप्लेस करने की सुविधा नहीं दी है।

Loading...

टेक्नोलॉजी सेक्टर में डिफॉल्ट काफी इस्तेमाल होने वाला शब्द है लेकिन कई लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं है। अब सवाल यह है कि आखिर डिफॉल्ट का मतलब क्या होता है, चलिए इसे एक उदाहरण से समझते हैं। उदाहरण के तौर पर यदि आपके पास मैसेज में कोई लिंक आता है।

जब आप उस पर क्लिक करते हैं तो वह लिंक किसी ब्राउजर में खुलता है। ऐसे में जिस ब्राउजर में यह लिंक खुलता है, उसे ही डिफॉल्ट ब्राउजर कहेंगे। आईफोन की बात करें तो इसमें कोई भी लिंक सीधे सफारी ब्राउजर में खुलता है, लेकिन नए फैसले के बाद सफारी की जगह आपको मोजिला या गूगल क्रोम को भी इस्तेमाल करने का मौका मिल सकता है।

बेहद रोमांचक और आश्चर्यजनक जानकारियों के लिए नीचे फोटो पर क्लिक करें

loading...
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com