Sunday , 26 September 2021

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे को लेकर टेंशन में सऊदी, विदेश मंत्री प्रिंस फैसल आएंगे भारत

Loading...

नई दिल्ली: सऊदी अरब के विदेश मंत्री प्रिंस फैसल बिन फरहान अल सऊद इस सप्ताह के अंत में अफगानिस्तान की स्थिति पर चर्चा करने के लिए भारत आ सकते है। कतर ने काबुल को कूटनीतिक रूप से उलझाने और तालिबान को वैध बनाने की दिशा में नेतृत्व किया है, जिसको लेकर मिडिल ईस्‍ट में भारत के अहम सहयोगी सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात अफगानिस्तान राज्य के सुरक्षा प्रभावों और तालिबान शासन के साथ वैश्विक जिहादी नेटवर्क के संबंधों को लेकर चिंतित हैं।

दोनों देश कतर, तुर्की और पाकिस्तान द्वारा सुन्नी इस्लामी शासन को शामिल करने में सक्रिय भूमिका से भी परेशान हैं और इस्लामाबाद ने काबुल के लिए अपनी पहली व्यावसायिक उड़ान भेजी है। कतर काबुल हवाई अड्डे के संचालन के तकनीकी पक्ष को संभाल रहा है, जबकि तालिबान अभी भी तुर्की सेना को एयरपोर्ट सुरक्षा सौंपने पर विचार कर रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 3 सितंबर को टेलीफोन पर क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान के साथ अफगानिस्तान की स्थिति पर चर्चा की। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने 30 अगस्त को संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति के राजनयिक सलाहकार डॉ अनवर गर्गश की मेजबानी की और काबुल संकट पर नोट्स का आदान-प्रदान किया।

इसी संदर्भ में सऊदी विदेश मंत्री का 19 सितंबर को भारत आने का कार्यक्रम है। प्रिंस फैसल के विदेश मंत्री जयशंकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ बैठक करने और प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करने की उम्मीद है। जयशंकर अगले दिन UNGA और क्वाड शिखर सम्मेलन के लिए न्यूयॉर्क के लिए रवाना होंगे।

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय सुन्नी पश्तून सेना के माध्यम से सत्ता हथियाने के पतन के बारे में चिंतित है। यूएन 1267 की सूची के अनुसार, तालिबान कैबिनेट के निम्नलिखित मंत्री संयुक्त राष्ट्र की सूची में हैं, जिसमें आंतरिक मंत्री सिराजुद्दीन हक्कानी पर अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा 5 मिलियन डॉलर का इनाम घोषित है। अफगानिस्तान में सक्रिय आतंकी समूहों में सबसे घातक हक्कानी नेटवर्क का मुखिया अब अफगान खुफिया विभाग का मुखिया है। नामित 33 मंत्रियों में से कम से कम 17 मंत्रियों को संयुक्त राष्ट्र द्वारा वैश्विक आतंकवादी के रूप में स्वीकृत किया गया है।

Loading...

1. मुल्ला मुहम्मद हसन अखुंद, प्रधानमंत्री
2. मुल्ला अब्दुल गनी बरादर, पहले डिप्टी पीएम
3. मौलवी अब्दुल सलाम हनफ़ी (उज़्बेक), सेकंड डिप्टी पीएम
4. मुल्ला मोहम्मद याकूब ओमारी, रक्षा मंत्री
5. मुल्ला सिराजुद्दीन हक्कानी, गृह मंत्री।
6. मौलवी अमीर खान मुत्ताकी, विदेश मंत्री
7. मुल्ला खैरुल्लाह खैरख्वा, सूचना एवं प्रसारण मंत्री
8. कारी दीन मोहम्मद हनीफ (ताजिक) आर्थिक मामलों के मंत्री
9. मुल्ला नूरुल्ला नूरी, सीमा और जनजातीय मामलों के मंत्री
10. मुल्ला अब्दुल लतीफ मंसूर, जल और बिजली मंत्री
11. नजीबुल्लाह हक्कानी, संचार मंत्री
12. जबीउल्लाह मुजाहिद, उप मंत्री आईबी
13. मुल्ला मोहम्मद फाजिल, उप रक्षा मंत्री
14. शेर मोहम्मद अब्बास स्तानकजई, उप विदेश मंत्री।
15. मौलवी नूर जलाल, उप गृह मंत्री
16. मुल्ला अब्दुल हक वसीक, खुफिया प्रमुख
17. मोहम्मद नबी ओमानी, राज्यपाल, खोस्ती

जबकि चीन, पाकिस्तान, तुर्की और कतर जैसे देश तालिबान को उलझा रहे हैं। महिलाओं और अल्पसंख्यकों के लिए कोई स्थान नहीं होने वाले पुरुष-प्रधान शासन को वैध बनाने की दिशा में कॉल करने से पहले अंतर्राष्ट्रीय समुदाय UNSC प्रस्ताव 2593 के साथ सुन्नी इस्लामवादियों को माप रहा है। इस बार भारत-प्रशांत महासागर और कोरोना वायरस के अलावा अफगानिस्तान की मुद्दा भी अगले सप्ताह होने वाली UNGA बैठक में गूंजेगा।

बेहद रोमांचक और आश्चर्यजनक जानकारियों के लिए नीचे फोटो पर क्लिक करें

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com